500+ Dard Bhari Shayari 2019 Hindi Collection

दोस्तों आज हम बात करेंगे Dard Bhari Shayari के बारे में। अगर आप भी दर्द भरी शायरी के तलाश में है तो आप सही जगह आये है बिकॉज़ आज हम दर्द भरी शायरी के बारे में शेयर करेंगे और आप उसे अच्छे से पढ़ सकते है और साथ साथ आप इसे अपने फ्रेंड्स, फॅमिली, गर्लफ्रेंड के साथ शेयर भी कर सकते है। जैसा की हम जानते है कई बार हम बहुत ज्यादा उदास होजाते है और हमे अच्छा नही लगता है इसलिए हम दर्द शायरी पढ़ते है जिससे हमारा मन शांत रहे।

Dard-Bhari-Shayari-2019

अगर आपका भी कुछ समय से मूड खराब है और आप दर्द भरी शायरी के तलाश में है। तो मैं आपके साथ 500+ दर्द भरी शायरी शेयर करूँगा दर्द भरी शायरी के साथ साथ मैं दर्द भरी शायरी इमेजेज भी शेयर करूँगा. तो चलिये दोस्तों Dard Bhari Shayari के बारे में आसानी से जानते है।

Latest Dard Bhari Shayari 2019

काश एक दिन ऐसा भी आए, वक़्त का पल पल थम जाए, सामने बस तुम ही रहो, और उमर गुज़र जाए।
दर्द दो तरह के होते हैं एक दर्द आपको दर्द देता हैं और दूसरा दर्द, आपको बदल देता हैं।
उन्हें चाहना मेरी कमज़ोरी हैं, उनसे कह नहीं पाना मेरी मज़बूरी हैं, वो क्यों नहीं समझते मेरी खामोशी, क्या प्यार का इज़हार करना जरुरी हैं।
किसी की चाहत पे ज़िंदा रहने वाले हम ना थे, किसी पर मर मिटने वाले हम ना थे, आदत सी पड़ गयी, तुम्हे याद करने की, वरना किसी को याद करने वाले हम ना थे।
उदास हूँ, पर आपसे नाराज नहीं, आपके दिल में हूँ, पर आपके पास नहीं, झूठ कहूँ तो सब कुछ मेरे पास हैं, और सच कहूँ, तो आपकी यादो के सिवा कुछ भी नहीँ।
शीशा तो टूट कर, अपनी कशिश बता देता है, दर्द तो उस पत्थर का हैं, जो टुटने के काबिल भी नही।
तेरे दिल के करीब आना चाहता हूँ मैं, तुझको नहीं और अब खोना चाहता हूँ मैं, अकेले इस तनहाई का दर्द बर्दाश्त नहीं होता, तू एक बार आजा तुझसे लिपट कर रोना चाहता हूँ मैं।
वो रात दर्द और सितम की रात होगी, जिस रात रुखसत उनकी बारात होगी, उठ जाता हूँ मैं ये सोचकर नींद से अक्सर, कि एक गैर की बाहों में मेरी सारी कायनात होगी।
और भी कर देता है मेरे दर्द में इज़ाफ़ा, तेरे रहते हुए गैरों का दिलासा देना।
दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया, मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया, दिल के सौदागरों से दिल्लगी कर बैठे,शायद इसलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया।
और भी कर देता है मेरे दर्द में इज़ाफ़ा, तेरे रहते हुए गैरों का दिलासा देना।
आरज़ू नहीं के गम का तूफान टल जाये, फ़िक्र तो ये है तेरा दिल न बदल जाये, भुलाना हो अगर मुझको तो एक अहसान करना,
दर्द इतना देना के मेरी जान निकल जाये।
बड़ रहा है दर्द-ओ-गम उसको भूला देने के बाद, याद उसकी और आयी खत जला देने के बाद।
हर मुलाक़ात पर वक़्त का तकाज़ा हुआ, हर याद पर दिल का दर्द ताज़ा हुआ।
इन ग़म की गलियों में
कब तक ये दर्द हमें तड़पाएगा, इन रस्तों पे चलते-चलते हमदर्द कोई मिल जाएगा।
तुमको देखूं तो मुझे प्यार बहोत आता है, ज़िंदगी इतनी हसीन पहले तो नही लगती थी।
अब बात दोस्ती की नहीं हौसले की है, लाजिम नहीं की तो भी मेरा हम खयाल हो, अब के वो दर्द देके मैं रोऊँ तमाम उम्र अब के लगा वो जख्म के जीना मुहाल हो।

100+ Best Dard Bhari Shayari

जिस्म से होने वाली मोहब्बत का इजहार आसान होता है रूह से हुई मोहब्बत समझने में जिन्दगी गुजर जाती है।
हम उनके लिए क्यों रोये जिन्होंने हमसे मोहब्बत भी किसी और को जलाने के लिए की।
मेरे पलकों में भरे आंसू उन्हें पानी सा लगता है हमारा टूट कर चाहना उन्हें नादानी सा लगता है।
धीरे-धीरे दिल में उतर जाने दे साँसों में भर ले सवार जाने दे अपनी मोहब्बत में थोड़ा सा जी लेने दे थोड़ा सा खुद पे ही मर जाने दे।
जब साँसों को खुद पे ऐतबार ही ना होजब कोई मोहब्बत में गिरफ्तार ही ना हो
ये खाली सी ज़िन्दगी किस काम की जब इसमें कोई आपका तलबगार ही ना हो।
ना पाने की इच्छा ना खोने का डर होगा जब उनके दिल में एक छोटा सा कोना हमारा घर होगा।
हमसे दूर जाने की सजा, सजा ऐसी देंगे हमे ना भूल पाओगे वजह ऐसी देंगे
हर पल मेरी तरह रोये तू भी किसी के लिए हो जाये मोहब्बत तुम्हे भी दुआ ऐसी देंगे।
जब प्यार में हर खता जायज़ कहलाये तो फिर क्यों मेरे इश्क़ को खता कहा जाये मोहब्बत ने अपनाया आशिक़ो को केवल जो पागल हुए वो बता कहा जाये
कुरेदो जख्म महफ़िल में सबको दिखाने के लिए टूटे दिल की दास्तान सुनाने के लिए जब नजर उठाके देखा महफ़िल के भीतर मेरा दर्द बहुत ही कम था जमाने के लिए।

दर्द भरी शायरी – Shayari 2019

गहरी रात भी थी हम दर भी सकते थे हम जो कहे ना सके वो कर भी सकते थे
तुम ने साथ छोड़ दिया हमारा ये भी ना सोचा हम पागल थे तेरे लिए मर भी सकते थे।
बहुत अजीब सिलसिले है मोहब्बत इश्क मैं कोई वफ़ा के लिए रोया तो कोई वफ़ा कर के रोया।
हम अजनबी थे जब तुम बातें खूब किया करते थे अब सना साईं है तो तुम हमको याद भी नहीं करते।
महेरबान बनके मिलो हो महेरबान बने रहेना हमारी याद में रहेना चाहे जहाँ रहेना।
जो तार से निकली है वो धून सब ने सुनीजो साज़ पे गुजरी है- वो किस को पता है।
ये ना पूछ के शिकायेतें कितनी है तुम से तो बता तेरा कोई और सितम बाकी तो नाही।
अब से सावन में सब का हिसाब कर दूंगा जिसका जो बाकी है में वो हिसाब कर दूंगा और मुझको इस गिलास में ही क़ैद रखना वरना
पुरे शहर का पानी से सह्राब कर दूंगा।
जब प्यार में हर खता जायज़ कहलाये तो फिर क्यों मेरे इश्क़ को खता कहा जाये मोहब्बत ने अपनाया आशिक़ो को केवल जो पागल हुए वो बता कहा जाये।
आज में ने तलाश किया उसे अपने आप में वो मुझे हर जगह मिला मेरी तकदीर के सिवा।
अब से सावन में सब का हिसाब कर दूंगा जिसका जो बाकी है में वो हिसाब कर दूंगा और मुझको इस गिलास में ही क़ैद रखना वरना
पुरे शहर का पानी से सह्राब कर दूंगा।

Toh mere pyaro aasha karta hoon ki aapko kafi jankari mili hogi, post achi lage toh share jarur kare!

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here